Sunday, November 11, 2018

बस 10 मिनट में दुसरो की मन की बाते जाने (how to know mind reading)

नमस्कार दोस्तों
आप सभी का स्वागत है हमारे वेबसाइट में दोस्तों दुसरो की मन की बात कैसे जाने जब आपने इस टाइटल को पढ़ा होगा तो आपके मन में आया होगा यार ये कैसे पॉसिबल है यह तो आपने कहानियो में सुना है या फिर मूवी में देखा होगा /


सायद आप लोगो में से कुछ लोग ये सोच रे है की ये असल जिन्दगी में हो ही नही सकता / पर दोस्त इस दुनिया में ऐसी कई चीज़ पॉसिबल है जो आपको नही पता / पर दोस्त मै हु न आपको बताने के लिए ये पोस्ट शुरु से अंत तक जरुर पढ़े और अपने दोस्तों को शेयर जरुर करे /

दोस्तों क्या आपने कभी HYPNOTIZING  के बारे में सुना है / किसी को HYPNOTIZING करना मतलब किसी को स्मोहित करना ये एक दिमाग की सुपर पॉवर है जो एक टेक्निक के जरिये दुसरो के मन को कण्ट्रोल करना
TELEKINESIS के बारे में सुना है ये आपके दिमाग की दूसरी शक्ति है / TELEPATHY हा ये भी एक है/
सबसे मजेदार है दुसरो की मन की बाते पढना जिसे माइंड रीडिंग कहते है /

दुसरो का दिमाग पढना COLLECTIVE CONSCIOUSNESS से जुड़ा हुआ है जो आपके दिमाग का ही शक्ति है जब आप इस लेवल पर पहुचोगे तो आप कर पाओगे /

जैसे दोस्तों आप किसी भी इंसान को देखकर ये तो बता सकते हो की वो गुस्सा है या दुखी उसके चेहरे से लेकिन आप वो क्या सोच ये आप नही बता सकते उसको जानने के लिए आपको जीरो थॉट में जाना होगा /


अगर आप दोस्तों अपने मन को शांत करके जीरो थॉट में चले जाते हो तो आप किसी भी इंसान के मन की बात पढ़ सकते हो और ये भी जान सकते हो की वो अब आगे क्या बोलने वाला है /

इस दुनिया में हर इंसान एक दुसरे से जुड़ा हुआ है CONSCIOUSNESS के लेवल पर इंसान का दिमाग जुड़ा हुआ है / आपने कभी देखा होगा की आप किसी को याद कर रहे होते हो तो उसका फ़ोन आ जाता है या वो खुद आ जाता है

और आप बोलते हो तम्हारी उम्र लम्बी होगी तुम्हे ही याद कर रहा था / यही कारण है जब आप जीरो थॉट में जाते हुए CONSCIOUSNESS के लेबल में जाते जाते यही जुड़े हुए होने के वजह से हर इंसान के थॉट क्या बोलने वाला है सब जान जाते हो /

तो दोस्तों आप लोगो को कैसा लगा ये आर्टिकल हमे कमेंट में बताये / और अपने दोस्तों को शेयर करना मत भूले / और हमे FOLLOW जरुर करे /
                                                                                                                    By- ROHIT MAURYA

0 comments: